Skip to Content

Home / पर्यटन

VIDEO देवेन्द्र के साथ ऊंचे पहाड़ों की ट्रैकिंग, और दर्शन करें ऐतिहासिक पिनाथ मंदिर के

अल्मोड़ा और बागेश्वर की सीमा पर स्थित ऐतिहासिक पिनाथ मंदिर गेवाड़, बौरारौ और कत्यूर घाटी के सांस्कृतिक समागम का केंद्र रहा है। 2750 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर में तीनों इलाकों के लोगों के लिए उनकी दिशाओं के अनुसार अलग-अलग दरवाजे बने हैं। यहां से तीनों तरफ को काफी पुराने ट्रैकिंग रूट थे, जो अब लुप्त हो चुके हैं। पिनाथ में शिव और त्रिदेव के मंदिर का निर्माण…

आज देवेन्द्र के साथ देखिए ‘कसार देवी’ मंदिर और जानिए इसकी चुंबकीय शक्ति को

उत्तराखंड राज्य के अल्मोड़ा जिले के निकट “कसार देवी”एक गाँव है | जो अल्मोड़ा क्षेत्र से 8 km की दुरी पर काषय (कश्यप) पर्वत में स्थित है | यह स्थान “कसार देवी मंदिर” के कारण प्रसिद्ध है | यह मंदिर, दूसरी शताब्दी के समय का है । उत्तराखंड के अल्मोडा जिले में मौजूद माँ कसार देवी की शक्तियों का एहसास इस स्थान के कण-कण में होता है | अल्मोड़ा बागेश्वर…

आज देवेन्द्र के साथ कैंची धाम की यात्रा, साथ में पढ़ें बाबा नीम करौली के चमत्कार

कैंची धाम – बिगड़ी तकदीर बनाने वाला हनुमान मंदिर हिमालय की गोद में बसा उत्तराखंड प्रकृति की अमूल्य अलौकिक धरोहर है। यहां की पावन रमणीक वादियों में पहुचते ही सांसारिक मायाजाल में भटके मानव की समस्त व्याधिया यूं शांत हो जाती है, जैसे की लौ पाते ही तिनका भस्म हो जाता है। यहां के ऐतिहासिक धरोहर रुपी रमणीय गुफाए मनभावन मंदिर यहां आने वाले हर आगन्तुक को अपनी ओर आकर्षित…

पैनखण्डा : बदरीनाथ के अलावा भी बहुत कुछ है यहां, एक पर्यटन स्थल डा. हटवाल के साथ

अगर घूमने के लिए आपको किसी ऐसी जगह की तलाश है जहां आपको तीर्थ के साथ प्रकृति के खूबसूरत नजारे भी दिखें, ट्रैकिंग भी हो, नदियां, झरने, फूलों की घाटियां, ग्लेशियर, ताल-झील, ग्लेशियर, पर्वतचोटियां, हिलस्टेशन, बुग्याल, गर्मपानी के श्रोत, स्कीइंग, राष्ट्रीय पार्क एवं परिजीवी मंडल के दर्शन भी एक ही भौगोलिक क्षेत्र में हो जाय। तो एक बार पैनखण्डा जरूर आएं। यह क्षेत्र आपकी अपेक्षाओं पर खरा उतरेगा। यही नहीं…

उत्तराखंड के पर्यटन स्थल देखें देवेन्द्र बिनवाल के साथ, आज घूमें जागेश्वर

कत्यूरी शासनकाल में निर्मित शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में शामिल जागेश्वर मंदिर समूह सदियों से शिव भक्तों और पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहा है। देवदार के घने विशाल वृक्षाें से घिरे इस स्थल पर पहुंचकर एक अद्भुत आनंद की अनुभूति होती है। उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिला मुख्यालय से 36 किमी की दूरी पर पूर्वोत्तर दिशा में घने देवदार के वनों से घिरा जागेश्वर मंदिर समूह यहां आने वाले लोगों…

शहरों की आपाधापी से दूर प्रकृति की गोद में बसा सुन्दर हर्षिल, फोटो देखिए

अगर आपको उत्तराखंड में किसी ऐसी शांत जगह की तलाश है, जो शहरों की आपाधापी से दूर हो तो आप हरसिल जा सकते हैं। उत्तरकाशी जिले में मौजूद ये जगह समुद्र तल से करीब 2619 मीटर ऊंचाई पर मौजूद है जो भागीरथी नदी के किनारे है। यहां काफी घने देवदार के पेड़ हैं, नदी का शांत बहता जल और पहाड़ों के बीच की प्राकृतिक सुंदरता आपको यहां बार-बार आने को…

हिमालय में 13500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है अद्भुत पानी का झरना, धीरे-धीरे हो रहा है लोकप्रिय

देश के अंतिम गांव माणा से सतोपंथ मार्ग पर माणा से पांच किमी की दूरी पर स्थित वसुधारा इन दिनों लोगों को बरबस ही अपनी ओर खींच रहा है। हर रोज कई पर्यटक वसुधारा के दीदार के लिए पहुंच रहे हैं। इस झरने को देखकर हर कोई अभिभूत हो रहा है। — यहाँ है वसुधारा! उत्तराखंड के सीमांत जनपद चमोली में बैकुंठ धाम से आठ और माणा गांव से 5…

1 जून से पर्यटकों के लिए खुलेगी फूलों की घाटी, पढ़िए कैसे पहुचें

विश्वप्रसिद्ध पर्यटक स्थल फूलों की घाटी 1 जून से पर्यटकों के लिेए खोल दी जाएगी । पर्यटन और वन विभाग की ओर से पर्यटकों के स्वागत की पूरी तैयारी कर ली गई है, एक बार में सीमित संख्या में ही पर्यटक घाटी में प्रवेश कर सकते हैं । आपको बता दें कि फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान उत्तराखंड में एक फूलों की घाटी का नाम है, जिसे अंग्रेजी में Valley of Flowers कहते…

नैनीताल के पास एक शांत पर्यटन स्थल पटवाडांगर, इसे फिल्म सिटी बनाने की सोच रही है सरकार

वैसे तो लगभग सभी घुम्मकडों ने नैनीताल का भृमण किया ही होगा। लेकिन कम ही लोग जानते होंगे पटवाडांगर के बारे में। पटवाडांगर का पूरा नाम राजकीय वेक्सीन संस्थान पटवाडांगर ( State Vaccine Institute) था जो अब बदल कर जी. बी. पन्त बायोटेक्नोलॉजी (G.B.Pant Biotechnology )पटवाडांगर कर दिया गया है। नैनीताल से 11 किमी. पहले हल्द्वानी नैनीताल रोड में बलदियाखान से 3 किमी. दूरी में स्थित है पटवाडांगर। 1903 में…

उत्तराखंड – बर्फ में चलानी है बाइक तो यहां आइये, आपको मिलेगी पूरी मदद

अगर आप दुर्गम बर्फीले रास्तों पर बाइक चलाना चाहते हैं तो उत्तराखंड चले आइये, यहां स्नोबाइकिंग एक साहसिक खेल के रूप में उभर रही है, और अब इसे उत्तराखंड पर्यटन विभाग की ओर से भी बढ़ावा दिया जा रहा है । यहां शीतकाल में कर्णप्रयाग, नीति घाटी, जोशीमठ, बदरीनाथ और गौचर जैसे इलाके स्नोबाइकर्स के लिये पहले से ही आकर्षण का केन्द्र रहे हैं । रविवार को इन साहसिक खेलों…