Skip to Content

Home / साहित्यPage 2

कहीं धीरे-धीरे खत्म तो नहीं हो रही हैं गढ़वाली और कुमाऊंनी भाषाएं

भारत कई भाषाओं की भूमि है। एक लोकप्रिय कहावत है “कोस कोस पर पानी बदले, चार कोस पर वाणी” मतलब भारत एक ऐसी जगह है जहाँ हर कुछ किलोमीटर में बोली जाने वाली भाषा पानी के स्वाद की तरह बदल जाती है भारत का संविधान देश की विभिन्न हिस्सों में बोली जाने वाली 23 आधिकारिक भाषाओं और दो आधिकारिक शास्त्रीय भाषाओं, संस्कृत और तमिल को मान्यता देता है। आज स्कूल…

Loading...