Skip to Content

अगर मोदी नहीं तो इन 6 में से कोई बन सकता है अगला पीएम, चौथा और छठा नाम सोचा भी नहीं होगा

अगर मोदी नहीं तो इन 6 में से कोई बन सकता है अगला पीएम, चौथा और छठा नाम सोचा भी नहीं होगा

Be First!
by January 13, 2019 News

जिस तरह से 2019 आम चुनाव को नजदीक देखते हुए तमाम विपक्षी दल एक मोदी विरोधी महागठबंधन बनाने की तैयारी कर रहे हैं, जो कुछ कदम चलने के बाद लड़खड़ा जाता है, अगर मान लीजिए चुनाव के बाद ऐसी स्थिति आती है कि बीजेपी अपने बल पर बहुमत में नहीं आती और विपक्षी दल एकजुट होते हैं तो वो कौन- कौन से चेहरे होंगे जो मोदी के विकल्प के रूप में प्रधानमंत्री पद के लिए उभरेंगे, आइए आपको बताते हैं….

1 मायावती – बसपा सुप्रीमो मायावती उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा के गठबंधन के बाद सुर्खियों में है और सपा ने उन्हें प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने के लिए हामी भर दी है। लेकिन कांग्रेस , तृणमूल कांग्रेस और कई सारे ऐसे दल हैं जो शायद ही उनके नाम पर सहमत हों ।

2 शरद पवार – महाराष्ट्र में एनसीपी, कांग्रेस और कुछ छोटे दल गठबंधन कर रहे हैं और अगर यहां शरद पवार मजबूत हुए तो वह प्रधानमंत्री पद के मजबूत दावेदार हो सकते हैं। हालांकि यह देखना होगा कि वह देश के दूसरे विपक्षी दलों को किस हद तक स्वीकार होंगे।

राहुल गांधी – अगर कांग्रेस सबसे बड़े विपक्षी दल के रूप में उभरी तो राहुल की उम्मीदवारी काफी मजबूत होगी , फिलहाल तो दूसरे विपक्षी दल उनके नेतृत्व को स्वीकार करने में संकोच कर रहे हैं ।

4 गुलाब नबी आजाद – अगर कांग्रेस सबसे बड़े विपक्षी दल के रूप में उभरती है और दूसरे विपक्षी दलों को राहुल गांधी स्वीकार नहीं होते तो गुलाम नबी आजाद एक नाम हो सकता है जिसे कांग्रेस आगे करे ।

5 ममता बनर्जी – ममता बनर्जी वो नाम है जो एक मोदी विरोधी मोर्चा बनाने के लिए 2014 से ही मुखर रहा है और वह प्रधानमंत्री पद को लेकर काफी महत्वाकांक्षी भी हैंं, अगर उनकी पार्टी एक बड़ी विपक्षी दल के रूप में उभरी तो उनकी उम्मीदवारी काफी मजबूत हो सकती है।

6 चंद्रबाबू नायडू – अगर नायडू की पार्टी टीडीपी आंध्र प्रदेश में अच्छा करती है और वो कुछ दक्षिण की पार्टियों को अपने साथ लाने में सफल रहे तो उनकी भी दावेदारी काफी मजबूत है। यहां हम आपको बता दें कि ये सभी नेता सिर्फ एक व्यक्ति नरेंद्र मोदी के कारण गठबंधन बनाने की कोशिशें कर रहे हैं और उन्हें हराने की कोशिश कर रहे हैं , ऐसे में अगर राजनीतिक गणित को समझा जाए तो एक पहलू यह भी है कि इन सब की कोशिश मोदी को पहले से ज्यादा मजबूत कर सकती हैं।

अब आप बताइए कि आप को क्या लगता है, इनमें से कौन सा शख्स 2019 में प्रधानमंत्री बन सकता है या फिर नरेंद्र मोदी इनके गठबंधन को धता बताकर दूसरी बार सत्ता में काबिज हो जाते हैं !

Mirror News

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published.