Skip to Content

दुनिया में हो रही है देश की बदनामी, सरकार ने कहा पहले से हालात सुधरे हैं ।

दुनिया में हो रही है देश की बदनामी, सरकार ने कहा पहले से हालात सुधरे हैं ।

Be First!
by May 2, 2018 News

जेनेवा में विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया के 15 सबसे ज्यादा वायु प्रदूषण वाले शहरों में भारत में 14 शहर आते हैं। ये आंकड़े हवा में पीएम 2.5 की मात्रा के आधार पर जारी किये गये हैं। सबसे बुरी हालत उत्तरप्रदेश के कानपुर की है जिसके बाद हरियाणा के फरीदाबाद , फिर वाराणसी और फिर गया का नंबर आता है। इन सब शहरों के बाद भारत के जिन शहरों के नाम शामिल किये गए हैं उनमें दिल्ली, पटना, आगरा , मुजफ्फरपुर, श्रीनगर, गुड़गांव, जयपुर, पटियाला और जोधपुर का नंबर है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन शहरों में हवा की हालत इतनी खराब है कि सांस से कई लोगों को बीमारियां हो रही हैं। इस रिपोर्ट के जारी होने के बाद भारत सरकार के पत्र सूचना कार्यालय की ओर से बताया गया है कि ये रिपोर्ट 2016 तक की है और इन शहरों में पिछले दो सालों में वायु गुणवत्ता में सुधार आया है। बयान में कहा गया है कि ” 2017 की तुलना में इसमें सुधार प्रदर्शित हुआ है। सरकार ने बीएस-4 से बीएस-6 में छलांग लगाने समेत कई निर्भीक कदम उठाए हैं। वायु प्रदूषण के संदर्भ में, कांटीन्‍यूअस एंबिएंट एयर क्‍वालिटी मोनीटरिंग स्‍टेशनों ( सीएएक्‍यूएमएस) पर आधारित सीपीसीबी डाटा से संकेत मिलता है कि वर्ष 2016 की तुलना में 2017 एवं अभी तक 2018 में भी वायु प्रदूषण में सुधार देखा गया है। दिल्‍ली में पार्टिकुलेट मैटर संकेद्रन में सुधार नवंबर 2016 एवं नवंबर 2017 के दो लगातार वर्षों में लगातार पड़ोसी राज्‍यों में पराली को जलाए जाने एवं खाड़ी देशों से धूल आने जैसी घटनाओं के बावजूद देखा गया। ” जिस तरह के हालात इन शहरों के हैं उससे तो यही लगता है कि अभी इस तरह की रिपोर्ट में अपनी स्थिति सुधारने के लिए देश को काफी मेहनत करनी होगी।

Mirror News

( हमसे जुड़ने के लिए CLICK करें)
( अपने आर्टिकल और विचार हमें mirroruttarakhand@gmail.com पर भेजें)

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading...
Loading...