Skip to Content

हिमालय में 13500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है अद्भुत पानी का झरना, धीरे-धीरे हो रहा है लोकप्रिय

हिमालय में 13500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है अद्भुत पानी का झरना, धीरे-धीरे हो रहा है लोकप्रिय

Closed
by June 4, 2019 All, Tour/Travel

देश के अंतिम गांव माणा से सतोपंथ मार्ग पर माणा से पांच किमी की दूरी पर स्थित वसुधारा इन दिनों लोगों को बरबस ही अपनी ओर खींच रहा है। हर रोज कई पर्यटक वसुधारा के दीदार के लिए पहुंच रहे हैं। इस झरने को देखकर हर कोई अभिभूत हो रहा है।

— यहाँ है वसुधारा!

उत्तराखंड के सीमांत जनपद चमोली में बैकुंठ धाम से आठ और माणा गांव से 5 किमी की दूरी पर है वसुधारा। समुद्रतल से 13500 फीट की ऊंचाई पर मौजूद है ये अदभुत जल प्रपात (झरना) । 400 फीट की ऊंचाई से गिर रहे इस झरने की खूबसूरती सम्मोहित करने वाली है। ऐसा प्रतीत होता है, जैसे पहाड़ी से फेन उठ रहा हो। इतनी ऊंचाई पर वायु और जल के मिश्रण से उत्पन्न संगीत हृदय के तारों को झंकृत कर देता है। यही वजह है कि भगवान बदरी विशाल के दर्शनों को आने वाले अधिकांश यात्री व पर्यटक वसुधारा जाना नहीं भूलते। इन दिनों भी ऐसा ही नजारा है।

— ये है धार्मिक मान्यता!

मान्यता है कि राजपाट से विरक्त होकर पांडव द्रोपदी के साथ इसी रास्ते से होते हुए स्वर्ग गए थे। कहते हैं कि वसुधारा में ही सहदेव ने अपने प्राण और अर्जुन ने अपना धनुष गांडीव त्यागा था। वहीं इस जलधारे में स्नान करने के लिए कई देवडोलियां भी पहुंचती हैं। माना जाता है कि जिस ओर ये देव डोली पहुंचती है उसी ओर ये जलधारा पहुंच जाती है। वसुधारा के पानी से देवडोलियों का स्नान करना धार्मिक दृष्टि से शुभ माना जाता है।

— पहुंचते ही पर्यटक अपनी थकान भूल जाते हैं।

वसुधारा के बारे में कहावत है कि इसके शीर्ष को देखते हुए व्यक्ति की टोपी गिर जाती है। यह झरना इतना ऊंचा है कि पर्वत के मूल से शिखर तक पूरा झरना एक नजर में नहीं देखा जा सकता। यहां आकर ऐसी अनुभूति होने लगती है, मानो यह धरती का हिस्सा न हो। इसीलिए पांच किमी की पैदल दूरी तय करने के बाद यहां पहुंचते ही पर्यटक अपनी थकान भूल जाते हैं। माना जाता है कि इस जल प्रपात का छींटा भी पड़ने से मनुष्य के समस्त विकार मिट जाते हैं। इसलिए काफी संख्या में यात्री वसुधारा जाने का प्रयास करते हैं।

— यहाँ पहुंचने का ये है सबसे उपयुक्त समय!

वसुधारा जाने के लिए सबसे अच्छा समय मई से नवंबर तक है। इसके लिए बदरीनाथ से माणा गांव तक वाहन सुविधा उपलब्ध है। इसके बाद पांच किमी की दूरी पैदल तय कर वसुधारा पहुंचा जाता है। लेकिन, यहां जाने के लिए यात्री या पर्यटक का पूरी तरह स्वस्थ होना जरूरी है। पहुंचते ही पर्यटक अपनी थकान भूल जाते हैं। अगर आप भी बद्रीनाथ धाम जा रहे हैं तो जरूर एक बार इस अदभुत झरने का दीदार करने पहुंचें।

Sanjay Chauhan, Sr Journalist, Chamoli

(उत्तराखंड के नंबर वन न्यूज, व्यूज पोर्टल मिरर उत्तराखंड से जुड़ने और इसके अपडेट पाने के लिए नीचे लाइक बटन को क्लिक करें )

Previous
Next
Loading...
Loading...