Skip to Content

अंकिता भंडारी के शव का हुआ अंतिम संस्कार, पिता के समझाने पर माने गुस्साए लोग, फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई

अंकिता भंडारी के शव का हुआ अंतिम संस्कार, पिता के समझाने पर माने गुस्साए लोग, फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई

Closed
by September 25, 2022 News

25 September 2022. श्रीनगर के आईटीआई घाट पर अंकिता भंडारी का अंतिम संस्कार कर दिया गया है, प्रशासन के काफी मशक्कत के बाद और अंकिता भंडारी के पिता के समझाने के बाद लोगों का गुस्सा शांत हुआ और वह शव के अंतिम संस्कार के लिए देर शाम को मान गए। इससे पहले फाइनल पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने तक परिजनों और गुस्साए लोगों ने शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया था और बदरीनाथ-ऋषिकेश हाईवे को जाम कर वहां काफी संख्या में लोग जमा हो गए थे।

इस बीच मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा है कि इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में करवाएंगे और पीड़ित परिवार की हर संभव मदद की जाएगी। धामी ने कहा कि इस मामले में जो भी दोषी होगा उसको बख्शा नहीं जाएगा। धामी ने लोगों के आक्रोश को भी स्वाभाविक बताया।

दरअसल पौड़ी जिले के श्रीकोट की रहने वाली 19 साल की अंकिता भंडारी होटल मैनेजमेंट करने के बाद इसी साल अगस्त में ऋषिकेश के एक रिसोर्ट में रिसेप्शनिस्ट की नौकरी करने लगी, 18 सितंबर की शाम को अंकिता भंडारी लापता हो गई, 22 सितंबर को राजस्व पुलिस से यह मामला लक्ष्मणझूला पुलिस को मिलने के बाद पुलिस की जांच में रिजॉर्ट के मालिक और दो मैनेजरों की भूमिका सामने आई, तीनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। रिजॉर्ट का मालिक पुलकित आर्य बीजेपी नेता का बेटा होने के कारण यह मामला काफी हाईप्रोफाइल हो गया है। हालांकि पुलकित आर्य के पिता और उसके भाई को बीजेपी ने इस घटना के बाद पार्टी से निष्कासित कर दिया। मामला हाईप्रोफाइल होने के कारण लोगों में जांच के प्रभावित होने की आशंका बनी हुई है।

कांग्रेस नेता हरीश रावत ने पूछे सात सवाल

  1. जब चीला से अंकिता नहीं लौटी अभियुक्त अकेले आया तो सारे रिजॉर्ट और आस-पास ये चर्चा हो गई कि अंकिता को नहर में डाल दिया गया है, फिर भी स्थानीय पटवारी को छुट्टी पर क्यों जाने दिया?
  2. प्रशासन को मीडिया के सारे घटनाक्रम छपने के बाद भी अभियुक्त को गिरफ्तार करने में इतना वक्त क्यों लगा ?
  3. अभियुक्त को पुलिस कस्टडी के बजाए जुडिशरी ज्यूडिशियल कस्टडी में भेजने का निर्णय किस स्तर पर लिया गया ?
  4. अंकिता का शव खोजने में जो विलंब हुआ, वह साक्ष्य मिटाने की कड़ी तो नही है ?
  5. अपराधी के कहीं अपराधो के साक्ष्य स्थल पर बुलडोजर फिराने और लोगों को आग लगाने के लिए उकसाने के पीछे कौन है और यह कृत्य किसके हाथों से हुआ?
  6. अभियुक्त को छात्र जीवन से ही मिले राजनीतिक संरक्षण देने वाले संरक्षकों के चेहरे भी क्या बेनकाब होंगे ?
  7. पुलिस ने अभी अभियुक्त का पुलिस रिमांड क्यों नहीं मांगा?

बीजेपी ने कांग्रेस पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया

भाजपा ने कांग्रेस व कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा सोशल मीडिया में अंकिता मर्डर केस को लेकर रिजोर्ट से साक्ष्य मिटाने की भ्रामक जानकारी फैलाने पर कड़ी आपत्ति की है। पार्टी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने स्पष्ट किया कि पुलिस ने 22 तारीख को ही संबंधित रिजॉर्ट की वीडियोग्राफी कर सील कर दिया गया था जबकि बुल्डोजर से ध्वस्तीकरण की कार्यवाही रिजॉर्ट के अवैध बाहरी हिस्से में हुई है और अब फोरेंसिक टीम द्वारा साक्ष्य जुटाने का वीडियो भी जारी कर दिया गया है, मुकद्दमा फ़ास्ट ट्रेक कोर्ट में चलाकर शीघ्र इंसाफ दिलवाने के निर्देश भी मुख्यमंत्री धामी ने दिए हैं।

महेंद्र भट्ट ने उत्तराखंड की बेटी को इंसाफ दिलाने की कानूनी मुहिम में सभी राजनैतिक व सामाजिक संगठनों से सहयोग करने की अपील की है । उन्होंने बताया कि पुलिस ने मुकद्दमा दर्ज होने के 12 घंटे में आरोपियों व 24 घंटे में पीड़ित की डेड बॉडी चीला नहर से रिकवर कर ली थी । इसके अतिरिक्त 22 तारीख को ही सभी शुरुआती साक्ष्य एकत्र करने के बाद रिज़ॉर्ट को पूरी तरह सील कर दिया गया था । वहीं अब सीएम धामी के निर्देश पर एसआईटी की फोरेंसिक टीम वहां सक्ष्व जुटाने का काम कर रही है जिसका वीडियो भी सार्वजनिक किया गया है साथ ही एक महीने में एसआईटी जांच पूरी कर मुकद्दमा फ़ास्ट ट्रेक कोर्ट में चलाने के निर्देश दिए है । उन्होंने कहा कि पार्टी एवं सरकार के स्तर पर प्रकरण से संबंधित परिवार वालों पर बर्ख़ास्तगी की कार्यवाही की गई है, उन्होंने भरोसा दिलाते हुए कहा कि भाजपा सरकार अंकिता के हत्यारों को कठोरतम सजा दिलाने को लेकर प्रतिबद्ध है।

दोपहर का अपडेट : पौड़ी के श्रीनगर में अंकिता का अंतिम संस्कार करना निश्चित हुआ है, प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद है, दूर दूर से लोगों के आने का सिलसिला लगातार जारी है। वहीं अंकिता के परिजन प्राइमरी पोस्टमार्टम रिपोर्ट से संतुष्ट नहीं हैं, उनका कहना है की अंकिता का अंतिम संस्कार तभी होगा जब पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आयेगी। परिजनों ने सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं।

अंकिता भंडारी मर्डर से राज्य में आक्रोश है। यमकेश्वर प्रखंड के अंतर्गत गंगा भोगपुर में स्थित रिसोर्ट में कार्यरत रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी का आज रविवार को श्रीनगर में पैतृक घाट में अंकिता का अंतिम संस्कार किया जाना है। शहर में मातम पसरा है, ग़मगीन माहौल और हत्यकांड के विरोध में व्यापार सभा ने बाजार बंद किया है। इसे लेकर यहां पुलिस-प्रशासन पूरी तरह से तैयार है। इस बीच परिजनों के बयान आये हैं जिसमे वह अंकिता के पोस्टमार्टम पर सवाल उठाते दिखाई देते हैं, उनका कहना है कि जब पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आएगी तब ही अंकिता की अंत्येष्टि की जाएगी, वहीं अंकिता के पिता ने सरकार द्वारा रिजॉर्ट में की गयी कार्यवाही पर भी संदेह जताते हुए कहा है कि अगर रेजॉर्ट में जल्दबाज़ी में तोड़फोड़ न की गयी होती तो वहां और भी सबूत मिलते। फिलहाल शासन-प्रशासन परिजनों को मनाने में जुटा हुआ है।

अत्याधुनिक तकनीक से सुसज्जित उत्तराखंड के समाचारों का एकमात्र गूगल एप फोलो करने के लिए क्लिक करें…. Mirror Uttarakhand News

( उत्तराखंड की नंबर वन न्यूज, व्यूज, राजनीति और समसामयिक विषयों की वेबसाइट मिरर उत्तराखंड डॉट कॉम से जुड़ने और इसके लगातार अपडेट पाने के लिए नीचे लाइक बटन को क्लिक करें)

Previous
Next
Loading...