Skip to Content

Breaking News  गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन, केंद्र में रक्षा मंत्री भी रहे पर्रिकर

Breaking News गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन, केंद्र में रक्षा मंत्री भी रहे पर्रिकर

Closed
by March 17, 2019 News

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन हो गया है परिकर चार बार गोवा के मुख्यमंत्री रहे और केंद्र में रक्षा मंत्री भी रहे। 2000 में पहली बार परिकर गोवा के मुख्यमंत्री बने और 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद वह केंद्र में रक्षा मंत्री भी रहे।

लंबी बीमारी के बाद गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का आज रविवार की शाम निधन हो गया। मनोहर पर्रिकर 63 साल के थे। पर्रिकर अग्नाशय की गंभीर बीमारी से पीड़ित थे। पर्रिकर के निधन से पूरा देश शोकाकुल है। बीमारी का पता चलने के ठीक एक साल बाद मनोहर पर्रिकर का पणजी आवास पर निधन हो गया। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने ट्वीट कर कहा, “गोवा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर के निधन पर अत्यंत दुख हुआ है। घंटों पहले, पर्रिकर के कार्यालय ने ट्वीट किया था कि उनकी स्थिति “अत्यंत गंभीर” थी और “डॉक्टर अपनी पूरी कोशिश कर रहे हैं”। पिछले एक साल में गोवा, मुंबई, न्यूयॉर्क और नई दिल्ली के अस्पतालों में उनका इलाज चलता रहा था।

पीएम नरेंद्र मोदी ने श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि मनोहर पर्रीकर जैसा नेता कोई नहीं है। एक सच्चे देशभक्त और असाधारण प्रशासक, वह सभी की प्रशंसा करते थे। राष्ट्र के प्रति उनकी त्रुटिहीन सेवा को पीढ़ियों द्वारा याद किया जाएगा। उनके निधन से गहरा दुख हुआ। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना। पर्रीकर आधुनिक गोवा के निर्माता थे। अपने मिलनसार व्यक्तित्व और सुलभ स्वभाव की बदौलत वे वर्षों तक राज्य के पसंदीदा नेता बने रहे। उनकी जन-समर्थक नीतियों ने गोवा को प्रगति की उल्लेखनीय ऊंचाइयों को सुनिश्चित किया।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लिखा कि मनोहर जी पारीकर के निधन का दुखद समाचार मिलने से मन बहुत दुखी है ; मनोहर जी के निधन से देश ने एक असाधारण व्यक्तित्व के नेता को खो दिया है। मनोहर जी ने जीवन के अंतिम क्षण तक देश की सेवा की। ईश्वर से प्रार्थना है कि उनकी दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान कर अपने श्री चरणों में स्थान दें। मनोहर जी की बीमारी का समाचार मिलने पर मैं जब गोवा गया तो उनको बीमारी से जूझते हुए भी कार्य करते देखा। यह उनका असाधारण व्यक्तित्व और जीवट ही था जिसने उनको अंतिम समय तक देश की सेवा की प्रेरणा दी। मनोहर जी का निधन मेरे लिए एक व्यक्तिगत क्षति है – दिवंगत आत्मा को मैं नमन करता हूँ ।

(उत्तराखंड के नंबर वन न्यूज और व्यूज पोर्टल मिरर उत्तराखंड से जुड़ने के लिए नीचे लाइक बटन को क्लिक करें)

Mirror News

Previous
Next