Skip to Content

संयुक्त राष्ट्र में बोले पीएम मोदी, कोरोना से लेकर संयुक्त राष्ट्र में सुधार तक 5 महत्वपूर्ण बातें

संयुक्त राष्ट्र में बोले पीएम मोदी, कोरोना से लेकर संयुक्त राष्ट्र में सुधार तक 5 महत्वपूर्ण बातें

Closed
by July 17, 2020 All, News

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने शुक्रवार को न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र में संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (ईसीओएसओसी) के सत्र के इस साल के उच्च-स्तरीय खंड को आभासी रूप से संबोधित किया। नॉर्वे के प्रधानमंत्री और संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने समापन सत्र को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने क्या कहा पढ़िए…..

1.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के सुधारों पर जोर देते हुए कहा है कि संयुक्त राष्ट्र की भूमिका और प्रासंगिकता का आकलन करने के लिए और इसके लिए बेहतर भविष्य को आकार देने के लिए ये समय सही है।

2. संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक परिषद के उच्च-स्तरीय सत्र के वर्चुअल संबोधन में पीएम ने कहा कि दूसरे विश्व युद्ध  के बाद संयुक्त राष्ट्र के गठन से लेकर अब तक बहुत कुछ बदल गया है और संयुक्त राष्ट्र से अपेक्षाएं भी बढ़ी हैं, पिछले महीने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के रूप में भारत के निर्विरोध चुने जाने के बाद शुक्रवार को पीएम मोदी ने न्यूयॉर्क स्थित  संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद के सत्र के इस साल के उच्च-स्तरीय खंड को वर्चुअल रुप से संबोधित किया। प्रति वर्ष होने वाली इस उच्च-स्तरीय बैठक में सरकार, निजी क्षेत्र, नागरिक समाज और शिक्षाविदों सहित उच्चस्तरीय प्रतिनिधि शामिल होते हैं।

3. पीएम ने बहुप्रतीक्षित संयुक्त राष्ट्र सुधारों का आह्वान करते हुए कहा कि बहुपक्षवाद में समकालीन दुनिया की वास्तविकताएं प्रतिबिंबित होना जरूरी है, बदलते अंतरराष्ट्रीय परिवेश और COVID-19 महामारी के मौजूदा हालात की पृष्ठभूमि में  आयोजित सत्र में PM ने कहा कि जैसे दूसरे विश्व युद्ध के बाद संयुक्त राष्ट्र का उदय हुआ वैसे ही  कोविड-19 के खिलाफ जंग विश्व संस्था के सुधारों और इसके नए स्वरूप में पुनर्जन्म का अवसर प्रदान करती है ।

4. संयुक्त राष्ट्र के साथ भारत के संबंधों के बारे में बात करते हुए पीएम ने याद किया कि कैसे शुरुआत से ही भारत ने संयुक्त राष्ट्र के विकास कार्यों और ECOSOC का समर्थन किया है, उन्होंने ECOSOC के उद्घाटन अध्यक्ष के रूप में भारत की भूमिका को भी याद किया कि सर रामास्वामी मुदलियार, एक भारतीय, उद्घाटन सत्र के अध्यक्ष थे। प्रधानमंत्री ने कोविड -19 के खिलाफ लड़ाई पर भी जोर देते हुए कहा कि भारत में इसे एक जन आंदोलन बनाया है और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए सरकार ने 300 अरब डॉलर का योगदान दिया है।

5. प्रधानमंत्री ने पृथ्वी के संरक्षण के लिए भारत के प्रयासों और उपलब्धियों का जिक्र करते हुए पर्यावरण के प्रति भारत की अटूट प्रतिबद्धता का भी उल्लेख किया। प्रधानमंत्री ने सौ प्रतिशत स्वच्छता हासिल करना, लैंगिक समानता, महिला सशक्तिकरण, विभिन्न योजनाओं के माध्यम से वित्तीय सशक्तीकरण, खाद्य सुरक्षा , 2022 तक सभी के लिए आवास जैसे भारत के प्रयास भी रेखांकित किए।

अत्याधुनिक तकनीक से सुसज्जित उत्तराखंड के समाचारों का एकमात्र गूगल एप फोलो करने के लिए क्लिक करें…. Mirror Uttarakhand News

( उत्तराखंड की नंबर वन न्यूज, व्यूज, राजनीति और समसामयिक विषयों की वेबसाइट मिरर उत्तराखंड डॉट कॉम से जुड़ने और इसके लगातार अपडेट पाने के लिए नीचे लाइक बटन को क्लिक करें)

Previous
Next
Loading...
Loading...