Skip to Content

Uttarakhand शुरू में पहाड़ी में बोले पीएम मोदी, राज्य को दी सौगात, कविता सुनाकर देवभूमि को नमन किया

Uttarakhand शुरू में पहाड़ी में बोले पीएम मोदी, राज्य को दी सौगात, कविता सुनाकर देवभूमि को नमन किया

Closed
by December 4, 2021 News

4 Dec. 2021. देहरादून में आयोजित जनसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना संबोधन गढ़वाली में शुरू करते हुए कहा कि, उत्तराखंड का सभी दाना सयाणों, दीदी भुलियों, चची बोडियों और भै बैणों आप सबूथै म्यारू प्रणाम। मिथै भरौसा छै कि, आप लोग कुशल मंगल होला।मी आप लोगों थै सेवा लगौणू छौं, आप स्वीकार करा। पीएम मोदी द्वारा गढ़वाली में बोले गए इस संबोधन के दौरान परेड ग्राउंड कार्यकर्ताओं द्वारा मोदी-मोदी के नारों से गुंजायमान हो गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देहरादून जनसभा के साथ ही भारतीय जनता पार्टी ने उत्तराखंड में आगामी विधानसभा चुनाव 2022 का शंखनाद भी बजा दिया है। परेड ग्राउंड में खचाखच भरे कार्यकर्ताओं के बीच जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि, उत्तराखंड प्रत्येक लक्ष्य को हासिल कर सकता है। अगले पांच सालों में उत्तराखंड रजत जयंती में प्रवेश करेगा। ऐसा कोई संकल्प नहीं, जो यहां पूरा नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि, प्रदेश की जनता के पास युवा मुख्यमंत्री धामी के रूप में युवा नेतृत्व है साथ ही 30-40 वर्षों वाले अनुभवी नेता भी उनकी टीम में हैं। ये सभी उत्तराखंड की बेहतरी के लिए समर्पित होकर काम कर रहे हैं।

पीएम ने कहा कि, हम कठिन रास्ते को चुनकर उस पर आगे बढ़ रहे हैं, किंतु यह देश हित में है। हमारा रास्ता सबका साथ, सबका विकास है। हमारी योजनाएं बिना किसी भेदभाव की सभी के लिए हैं। उन्होंने कांग्रेस सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि, उन्होंने वर्ष 2007 से लेकर 2014 के बीच सात सालों में कुल 288 किमी. नेशनल हाईवे का निर्माण करवाया, जबकि हमारी सरकार ने सात वर्षों में 2000 किमी. से ज्यादा लंबाई वाले नेशनल हाइवे का निर्माण करवाने में सफल रही। पहले की सरकार ने उत्तराखंड में नेशनल हाईवे पर 7 साल में 600 करोड़ के आस पास खर्च किया। हमारी सरकार ने 7 साल में नेशनल हाईवे पर 12,000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च कर चुकी है। सीमावर्ती पहाड़ी क्षेत्रों के इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी पहले की सरकारों ने उतनी गंभीरता से काम नहीं किया, जितना करना चाहिए था। बॉर्डर के पास सड़कें बनें, पुल बनें, इस ओर उन्होंने ध्यान नहीं दिया।वन रैंक वन पेंशन हो, आधुनिक अस्त्र-शस्त्र हो, आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देना हो, जैसे उन लोगों ने हर स्तर पर सेना को हतोत्साहित करने की कसम खा रखी थी। आज जो सरकार है वो दुनिया के किसी देश के दबाव में नहीं आ सकती। एक समय था जब पहाड़ पर रहने वाले लोग विकास की मुख्यधारा से जुड़ने का सपना ही देखते रहते थे, इसमें पीढ़ियां बीत जाती थीं। लेकिन जब कुछ करने का जुनून हो तो सूरत भी बदलती है और सीरत भी बदलती है। आपका ये सपना पूरा करने के लिए हम दिन-रात मेहनत कर रहे हैं।टीकाकरण के मामले में आज उत्तराखंड देश के अग्रणी राज्यों में है। इसके लिए मैं पुष्कर सिंह धामी, उनके साथियों और पूरी उत्तराखंड की सरकार को बधाई देता हूं। डबल इंजन की सरकार में उत्तराखंड के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी तेजी से काम चल रहा है। उत्तराखंड में तीन नए मेडिकल कॉलेज स्वीकृत किए गए हैं। ऋषिकेश एम्स तो सेवा दे ही रहा है, कुमाऊं में भी सेटेलाइट सेंटर सेवा देना शुरु कर देगा। कुछ राजनीतिक दलों द्वारा समाज में भेद करके सिर्फ एक तबके को, चाहे वो अपनी जाति का हो, किसी खास धर्म का हो या अपने छोटे से इलाके के दायरे का हो, इसी पर ध्यान देना यही प्रयास हुए हैं और उसमें ही उनको अपना वोट बैंक नजर आता है। देश के सामान्य मानवी का स्वाभिमान, उसका गौरव सोची-समझी रणनीति के तहत कुचल दिया गया, उसे आश्रित बना दिया गया। लेकिन इस अप्रोच से अलग हमने अलग रास्ता चुना है। वो मार्ग कठिन है, लेकिन देशहित में है। हमारा मार्ग है, सबका साथ-सबका विकास।

उन्होंने जनता को स्मरण कराते हुए कहा कि, आज हमारी सरकार आज सीधा जनता के पास जाती है और जनता की समस्याएं लाने का इंतजार नहीं करती। उन्होंने कहा कि अब दिल्ली से देहरादून की दूरी पहले के मुबाकले घटकर केवल आधी रह जाएगी। इससे देहरादून के साथ हीहरिद्वार, मुजफ्फरनगर, शामली, बागपत व मेरठ जानेवालों को भी लाभ मिलेगा।

पीएम मोदी ने उत्तराखंड को दी 18 हजार करोड़ की सौगात

आगामी विधानसभा चुनाव 2022 से पूर्व पीएम नरेंद्र मोदी ने देहरादून से प्रदेश को 18 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। इस मौके पर 15,626 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास व 2,573 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण किया गया।

इन योजनाओं का हुआ शिलान्यास

दिल्ली- देहरादून इकोनोमिक कॉरिडोर-175 किमी. (लागत रूपये 8500 करोड़)       

दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे से हरिद्वार- 51 किमी.(लागत रूपये 2100 करोड़)  

देहरादून-पांवटा साहिबः पांवटा साहिब से बल्लूपुर चौक- 50 किमी. (लागत रूपये 1,695 करोड़)

मनोहरपुर से कांगड़ी 4 लेन में 15 किमी. हरिद्वार रिंग रोड़ का निर्माण (लागत रूपये 1,560 करोड़) 

जल आपूर्ति, सड़क एवं जल निकासी प्रणाली का विकास, देहरादून (लागत रूपये 724 करोड़),    

मेडिकल कॉलेज, हरिद्वार (लागत रूपये 538 करोड़)

श्री बद्रीनाथ धाम में विकास कार्य (लागत रूपये 220 करोड़)

नजीबाबाद से कोटद्वार एनएच-119 में 15 किमी. का सड़क चौड़ीकरण (लागत रूपये 108 करोड़)

लक्ष्मण झूला सेतु के समीप गंगा नदी पर 132 मीटर का पुल निर्माण (लागत रूपये 69 करोड़)   

चाइल्ड फ्रेंडली सिटी प्रोजेक्ट, देहरादून (लागत रूपये 58 करोड़) 

श्री गंगोत्री-यमुनोत्री धाम में विकास कार्य (लागत रूपये 54 करोड़)

इन योजनाओं का हुआ लोकार्पण

व्यासी हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट, देहरादून 120 मेगावाट(लागत रूपये 1,777 करोड़) 

देवप्रयाग से श्रीकोट एनएच-58 में 38 किमी. सड़क का चौड़ीकरण का कार्य (लागत रूपये 257 करोड़)      

ब्रहमपुरी से कौड़ियाला एनएच-58 में 33 किमी. का सड़क चौड़ीकरण एवं डक्ट निर्माण का कार्य(लगभग 248 करोड़)  

लामबगड़ एनएच- 58 में 500 मीटर भूस्खलन शमन का कार्य (लागत रूपये 108 करोड़)       

साकणीधार, श्रीनगर एवं देवप्रयाग एनएच-58 में 1.1 किमी. क्रोनिक भूस्खलन उपचार का कार्य (लागत रूपये 76 करोड़)         

हिमालयन संस्कृति केन्द्र, देहरादून (लागत रूपये 67 करोड़) 

स्टेट ऑफ आर्ट परफ्यूमरी एवं एरोमा लेबोरेटरी सेंटर फॉर एरोमेटिक प्लांट्स, देहरादून (लागत रूपये 40 करोड़) 

प्रधानमंत्री की कविता ने भरी कार्यकर्ताओं में ऊर्जा
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के अंत में एक ऊर्जामयी कविता सुनाकर कार्यकर्ताओं में ऊर्जा का संचार कर दिया। कविता कुछ इस तरह थी कि

जहां पवन बहे संकल्प लिए, जहां पर्वत गर्व सिखाते हैं,

जहां ऊंचे नीचे सब रास्ते, बस भक्ति के सुर में गाते हैं

उस देवभूमि के ध्यान से ही मैं सदा धन्यवाद हो जाता हूं

है सौभाग्य मेरा, मैं तुमको शीश नवाता हूं,

मैं तुमको शीश नवाता हूं और धन्य धन्य हो जाता हूँ

मंडवे की रोटी, हुड़के की थाप,

हर एक मन करता शिवजी का जाप

ऋषि मुनियों की है ये तपोभूमि

कितने वीरों की ये जन्मभूमि

मैं तुमको शीश नवाता हूं….

( उत्तराखंड की नंबर वन न्यूज, व्यूज, राजनीति और समसामयिक विषयों की वेबसाइट मिरर उत्तराखंड डॉट कॉम से जुड़ने और इसके लगातार अपडेट पाने के लिए फेसबुक पर Uttarakhand Mirror से जुड़ें, अगर आप वेबसाइट पर हैं तो नीचे लाइक बटन क्लिक करें )

(अत्याधुनिक तकनीक से सुसज्जित उत्तराखंड के समाचारों का एकमात्र गूगल एप फोलो करने के लिए क्लिक करें…. Mirror Uttarakhand News या गूगल पर सर्च करें Mirror Uttarakhand News)

Previous
Next
Loading...